अकबरुद्दीन ओवैसी के विरोधी भी करते हैं इस स्पीच की तारीफ़

loading...

आल इंडिया मजलिस ए इत्तिहादुल मुस्लिमीन के अध्यक्ष असद उद्दीन ओवैसी के फैन्स तो लाखों में हैं लेकिन हम आज आपको बताने जा रहे हैं उनके छोटे भाई के बारे में। उनके छोटे भाई अकबरुद्दीन ओवैसी विधायक हैं लेकिन अक्सर अपने बयानों को लेकर विवादों में रहते हैं। हम आज आपको उनके एक बयान के बारे में बताने जा रहे हैं जिसकी तारीफ़ उनके विरोधी भी करते हैं।

ये बयान तेलंगाना विधानसभा में अकबरुद्दीन ने दिया था। इस बयान के बाद उनकी छवि में व्यापक सुधार हुआ था। असल में उन्होंने ये स्पीच तब दिया था जब युवा एक्टिविस्ट और पीएचडी छात्र रोहित वेमुला की ख़ुदकुशी का मामला सामने आया था। उन्होंने एक निहायत ही जज़्बाती किस्म का स्पीच दिया था। इस स्पीच में उन्होंने तेलंगाना के मुख्यमंत्री को हिदायत दी थी कि उनकी सरकार को चाहिए कि छात्रों के हित में काम करे। उन्होंने साथ ही मोदी सरकार पर भी जमकर निशाना साधा था।

loading...

आपको बता दें कि अकबरुद्दीन ओवैसी के कुछ चुनावी भाषण साम्प्रदायिक होने के शक में विवादों में आये हैं। उनके कथित भाषण ऐसे थे जिनको एक समुदाय विशेष के ख़िलाफ़ माना गया। अकबरुद्दीन को उनके समर्थक मीम का शेर भी कहते हैं। आपको बता दें कि आल इंडिया मजलिस ए इत्तिहादुल मुस्लिमीन को मीम के नाम से भी जाना जाता है। ये तेलंगाना में बतौर राज्य पार्टी अधिकार रखती है। ये लंबे समय से हैदराबाद लोकसभा सीट जीत रही है। असदउद्दीन ओवैसी को पार्टी का सेक्युलर चेहरा माना जाता है जबकि अकबरुद्दीन ओवैसी को लोग कट्टर की श्रेणी में रखते हैं।

loading...